Hello Doston कैसे हो आप सब Doston आज के इस Blog में हम आप सभी को बताने वाले हैं Dilip Kumar Biography के बारे में यदि आप जानना चाहते हो तो आज के इस Blog को आखिर तक जरूर पढ़े Doston दिलीप कुमार जो है वह फिल्मी दुनिया के बहुत ही महान कलाकार और उनके जीवन पर बात करेंगे | दिलीप कुमार का जन्म 11 दिसंबर  सन् 1922 को हुआ था | वह पेशावर के रहने वाले थे जो अब पाकिस्तान में है | दिलीप कुमार के पिता मुंबई में आकर बस गए थे | 

दिलीप कुमार ने मुंबई में बसने के बाद हिंदी फिल्मों में काम करने का फैसला लिया | Dilip Kumar का पुरा नाम मोहम्मद यूसुफ खान था उनके पिता का नाम लाला गुलाम सरवर था जो एक जमींदार परिवार से ताल्लुक रखते थे | इनके भाई का नाम नासिर खान था जो एक एक्टर थे बेगम पारा उनकी भाभी का नाम था अय्यूब खान भतीजा जो कि वह भी एक एक्टर थे| फिल्मों में काम और पहचान की वजह से और फिल्मों में सफलता मिली | दिलीप कुमार ने सन् 1968 में 44 में उन्होंने आसमा से शादी की |

 

Dilip Kumar | Biography In Hindi 

Dilip Kumar Biography In Hindi { सारी जानकारी }

Doston अब आपको बताते हैं कि Dilip Kumar ने अपना नाम क्यों बदला था| बदलने का क्या कारण था दिलीप कुमार ने जब फिल्मों में काम करना शुरू किया था तब उन्होंने अपना नाम बदलकर युसूफ खान से Dilip Kumar रख लिया | उनका नाम बॉम्बे टॉकीज के ने रखा था Doston चलो लेकर चलते हैं बिना वक्त बिताएं दिलीप कुमार के कैरियर की शुरुआत की ओर Dilip Kumar के करियर की शुरुआत कुछ इस तरह हुई। …….

 

 Dilip Kumar के Carrier की शुरुआत कैसे हुई :-  

दिलीप कुमार जब मुंबई से पुणे गए तब उन्होंने अपना कैटरिंग का बिजनेस शुरू किया तब उस समय की एक मशहूर एक्ट्रेस देविका रानी जो मां बेटा की थीं | उन्होंने दिलीप कुमार को देखा Dilip Kumar को देखने के बाद उन्होंने कहा दिलीप कुमार से आपको फिल्मों में काम करना | तब जाकर उनको फिल्मों में पहला ब्रेक मिला जो देविका रानी की  वजह से मिला दिलीप कुमार की पहली फिल्म का नाम ज्वार भाटा था और 

यह फिल्म सन् 1944 में आई थी | Dilip Kumar की पहली फिल्म 1944 में आई | यह फिल्म ज्वार भाटा बॉक्स ऑफिस पर कोई खास कमाल नहीं दिखा पाई फिर उनको एक और फिल्म में काम करने का मौका मिला और यह फिल्म 1945 में आई थी यह फिल्म दिलीप कुमार को स्टार बना दिया और फिर उनका डायलॉग और अपने अंदाज में काम करते गए | मेला 1949 में अंदाज जो नरगिस और राज कपूर के साथ थी 1958 में यहूदी जैसी फिल्मों में काम किया देवदास फिल्म उन्हें रातो रात लीजेंडरी किंग बना दिया |

 

Filmfare Awards | Dilip Kumar के बारे में :-

दोस्तों आज की Post में चलो आगे बढ़ते हैं | Dilip Kumar के फिल्म फेयर अवार्ड के बारे में बात करेंगे | दिलीप कुमार ने बहुत सारे अवार्ड जीते | दिलीप कुमार फिल्म के सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के तौर पर मिले सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार शक्ति जो 1983 में मिला था 1968 में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार फिल्म का नाम था राम और श्याम 1965 में उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के तौर पर मिला इस फिल्म का नाम था लीडर 1961 फिल्म कोहिनूर में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला 1958 में जो दिलीप कुमार को लीजेंडरी बना दिया था और देवदास 1957 में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता यह फिल्म आजाद  1956 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला इस फिल्म का नाम दाग था  दिलीप कुमार को भारतीय फिल्म के सर्वोच्च सम्मान के लिए दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया इसके बाद Dilip Kumar को पाकिस्तान में नागरिक सम्मान निशाने इम्तियाज से नवाजा गया |

 

Dilip Kumar की मौत कैसे हुई :-

Dilip Kumar एक महान कलाकार , सुपरस्टार , मेगास्टार और पुराने जमाने के लिए जेंड्री एक्टर दिलीप कुमार बहुत लंबे समय से एक बीमारी से जूझ रहे थे पर कुछ ही महीने पहले यह महान एक्टर 7 जुलाई  2021 को 98 साल की उम्र में पंचतत्व में विलीन हो गया और इस महान कलाकार को जुहू के कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक कर दिया गया दोस्तों  ऐसे ही कमाल बायोग्राफी पढ़ने के लिए हमारे पेज को लाइक करें हमारी website पर सर्च करें हमें सपोर्ट करें ताकि हम आपको ऐसे ही बहुत सारे महान व्यक्ति के बारे में आपको बता सकें 

 

Also Read 

Salman Khan | Biography

 

Doston इस Blog में इतना ही बताया गया है | जैसे की आप सभी को पता होगा कि हमने आज के इस Blog में हमने आपको बताया कि Dilip Kumar Biography के बारे में यदि आप और भी जानकारी जानना चाहते हो तो हमारे इस ब्लॉग को आगे जरुर शेयर करो ताकि हम आप सभी के लिए और भी Blog लाते रहेंगे | 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here